Main Aur Meri Tanhai

मैं और मेरी तन्हाई आर्टिकल एक ऐसा आर्टिकल है।जिसमें हमें यह एहसास होता है कि हमारा समय हमारे लिए कितना महत्वपूर्ण है। हमारी जिंदगी में समय हमारे हालात को किस तरह अपने साथ में रखता है। और किस तरह अपने आप को हमारे जीवन में अपना महत्व को बताता है। और किस प्रकार हमारे जीवन में महत्वपूर्ण है। और किस प्रकार हमारे जीवन की नैया को अपने हाथों द्वारा संचालित करते हैं। इस आर्टिकल मैं और मेरी तन्हाई इसी बात पर आधारित है। आइए इस आर्टिकल के द्वारा जानते है समय का हमारे जीवन में कितना महत्वपूर्ण है।

मैं और मेरी तन्हाई कभी भी एक साथ रहने को तैयार नहीं होती। जब से मैं अकेला रहने लगा हूं उस रात मेरी तन्हाई मुझसे मेरे जीवन की कहानी को बड़े प्यार से पूछती है। और मैं हमेशा यही कहता हूं कि तू मुझे अकेला छोड़ दे । क्या बताऊं मैं तुझे अपने जीवन की कहानी को कि मैं कुछ भी नहीं हूं ।और ना ही जीवन में अभी तक कुछ कर पाया हूं ।समय मेरा साथ नहीं दे रहा मुझे यह एहसास नहीं था की यह तन्हाई मुझसे सवाल क्यों पूछ रही है।

लेकिन तनहाई मेरे पीछे पड़ी हुई है रुलाती है झुंझलाती है बहुत तड़पाती है। बस एक ही उसके जहन में सवाल है की जिंदगी की कहानी बताओ। अब तक क्या किया। कैसे जीवन को जिया और कैसे जी रहा है। अगर तू मेरे सवाल का जवाब दे देगा तो मैं तेरा साथ छोड़ दूंगी। मेरे सवाल का जवाब अगर नहीं देगा तो मैं तेरा साथ कभी भी नहीं छोडूंगी। मैंने कहा आज मुझे तू छोड़ दे मुझ पर रहम खा। आगे से तुझे नहीं बुलाऊंगा तुझे नहीं अपनाएंगे। उसने मुझे छोड़ दिया और मैं फिर सो गया। सुबह हुई जब मैं उठा तो समय मेरे पास ही खड़ा था।वह मेरी तरफ देख रहा था मैं उसकी तरफ वह मुझे घूरे ही चला जा रहा था।

मुझे पता नहीं था कि मेरा समय बीतता चला जा रहा है। मैं कुछ करने को सोच रहा था अचानक समय बोल पड़ा क्या सोच रहा है तू। मैं अभी तेरे पास खड़ा हूं और तू है कि मेरी परवाह नहीं कर रहा है। मेरी तरफ देख भी नहीं रहा है लेकिन मुझे तेरी परवाह है।लेकिन तुझे मेरी परवाह नहीं है। तू मुझे अपने पास खड़ा देख कर भी मेरा इस्तेमाल सही से नहीं कर रहा है धिक्कार है तेरी जिंदगी पर जी करता है तेरा साथ छोड़ दूं ।लेकिन मैं किसी का साथ नहीं छोड़ता तेरी मर्जी तू चाहे मुझे जैसे देख लेकिन मैं तेरा साथ नहीं छोडूगा। मैं तेरे हर पल साथ रहूंगा तू जैसा करेगा मैं जैसा बन जाऊंगा। तू जहां जाएगा मैं वहां जाऊंगा। और मैं कभी नहीं रुकता तू चाहे रुक जाए और मैं उसी का साथ देता हूं जो मेरी कदर करता है और जो मुझे अपने जीवन में अपने साथ साथ लेकर चलता है। मैं उसके जीवन में तन्हाई दुख जैसे पहलुओं को दूर भगाने की कोशिश करता रहता हूँ।

तूने कल तन्हाई से वादा किया था कि मैं कल से तुझे नहीं आने दूंगा। मैं सुन रहा था इसलिए तेरा साथ देने आया हूं। तन्हाई तेरे जीवन की कहानी पूछ रही थी ।क्योंकि तूने मुझे सही से नहीं अपनाया यदि मेरी कदर की होती। तो ना तो तन्हाई तेरे पास होती है और ना तू आज इतना दुखी होता है। आज के बाद अगर तू मेरी कदर करेगा मेरी इज्जत करेगा मुझे बर्बाद नहीं करेगा तो मैं तेरे साथ हमेशा तेरा बनकर खड़ा रहूंगा। तूने सुना होगा लोग कहते हैं । कि आज तेरा समय कल मेरा भी आएगा । मैं उन्हीं के पास जाता हूं और रहता हूं जो मेरी कदर करता हैं। और अगर तू आज के बाद इस जीवन को खुशहाल पाना चाहता है तुम मेरी कदर करना सीख लो मैं तेरे साथ हूं और तेरे साथ जीवनभर रहूंगा। जिंदगी के हर दुख में तेरे साथ रहूंगा मेरी कदर करेगा मैं तेरा साथ जिंदगी भर नहीं भूलूंगा। तेरी किस्मत बना दूंगा अगर तू मेरी इज्जत करेगा मेरा ख्याल रखना मेरी परवाह करेगा।मेरी गति इतनी तेज है कि मुझे कोई पकड़ नहीं सकता मुझे कोई छू नहीं सकता मुझे कोई रोक नहीं सकता मैं समय हूं। और मेरी कदर करना सीख मैं तेरी जिंदगी की कदर करना औरों को सिखा दूंगा। मैं तुझे वहां तक पहुंचा दूंगा जिसके बारे में तू अभी तक सोच रहा है। मैं जानता हूं तूने मेरी कदर नहीं की जिसकी वजह से आज तू इतना परेशान है।

इतना कहकर समय वहां से गायब हो गया।

आर्टिकल आपको कैसा लगा इसके बारे में कमेंट अवश्य करें। और अपनी राय अवश्य में क्योंकि मैं संदीप सिंह राजावत हमेशा नए आर्टिकल और मोटिवेशनल स्टोरी को पेश करता रहता हूं ।

धन्यवाद

Advertisements

Mobile se Online PF apply karne ka simple tarika

आप इस Blog में इस Post को पढने के बाद इस Article से संबंधित अपने विचार साझा कर सकते हैं।

यहां पर बात करेंगे कि हम खुद स्वयं ऑनलाइन पीएफ को कैसे अप्लाई कर सकते हैं और कम समय में कम कागजों के द्वारा ना ऑफिस का झंझट न cyber जाने की जरूरत खुद अपने मोबाइल फोन से आसानी से अप्लाई कर सकते हैं। इसी बात को यहां पर हम जानेंगे ऑनलाइन अप्लाई पीएफ विड्रोल कैसे कर सकते हैं और इसमें किन चीजों की आवश्यकता होती है। इन सभी का प्रोसेस किस तरह होता है यह सभी बिंदु इस आर्टिकल में सम्मिलित करेंगे तो आइए जानते हैं कि ऑनलाइन पीएफ अप्लाई अपने हाथों से अपने मोबाइल से किस तरह से करें।

पीएफ अप्लाई करने के लिए महत्वपूर्ण

पीएफ अप्लाई करने के लिए हमें कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेजों की आवश्यकता होती है Online PF को निकालने के लिए लिए बहुत सारे कागजों की जरूरत नहीं होती है केवल हमारे पास हमारा यू ए एन UAN नंबर एक्टिवेट होना चाहिए और आधार में एक्टिवेट मोबाइल नंबर हमारे पास होना चाहिए। हमें कुछ खास बातों का ध्यान रखना चाहिए कि जब हम अप्लाई करें उस समय हमारे पास हमारा UAN नंबर जो कि कंपनी द्वारा प्रोवाइड किया गया है UAN नंबर में जो हमारा मोबाइल नंबर एक्टिवेट है वह हमारे पास होना चाहिए। दूसरा डॉक्यूमेंट आधार कार्ड का नंबर और आधार से लिंक जो भी हमारा मोबाइल नंबर है वह भी हमारे पास होना चाहिए तीसरा डॉक्यूमेंट है बैंक के अकाउंट हमारे पास अप्लाई करते समय बैंक की पासबुक या चेक बुक पास में होनी चाहिए ।जिससे अप्लाई करते वक्त हम अपने अकाउंट को वेरीफाई कर सकें तो आइए जानते हैं कि किस तरह हम अपने मोबाइल से साधारण तरीके से गवर्नमेंट की दी हुई सुविधाओं का फायदा उठा सकते हैं और भागदौड़ से बस सकते हैं क्योंकि आज के दौर में पीएफ निकालना कोई बड़ी बात नहीं है लेकिन फिर भी कहीं ना कहीं हम साइबर कैफे जैसी सुविधाओं का प्रयोग करते हैं सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि जब हम किसी कंपनी को ज्वाइन करते हैं तो उस समय हमें अपने डॉक्यूमेंट को अच्छी तरह से देख लेना चाहिए कि हमारे किसी डॉक्यूमेंट में हमारी जन्मतिथि हमारा नाम किसी भी प्रकार की समस्या नहीं होनी चाहिए जिससे कि जब हम पीएफ निकालने के लिए अप्लाई करें तो उस समय हमारी द्वारा feed की जानकारी में किसी प्रकार की समस्या क्रिएट ना हो और हमारी केवाईसी कंपलीट और वेरीफाई हो जाए। तो आइए जानते हैं कि किस तरह से हम अपने फोन से साधारण तरीके से PF के लिए अप्लाई कर सकते हैं और आसानी से PF Withdrawal कर सकते हैं।

यहां पर हम करेंगे एक गवर्नमेंट द्वारा भारत सरकार द्वारा लांच किया हुआ उमंग एप। इस ऐप के जरिए हम आसानी से अपनी पासबुक का स्टेटमेंट देख सकते हैं क्लेम देख सकते हैं। और ऑनलाइन पीएफ विड्रोल के लिए रिप्लाई भी कर सकते हैं। इसमें हमें सिर्फ थोड़ी सी जानकारी की आवश्यकता होती है वहीं जानकारी हम आपको शेयर कर रहे हैं ।

सबसे पहले आप अपने मोबाइल में प्ले स्टोर में जाए और वहां से आप उमंग एप टाइप कर सर्च करें। कुछ ही देर में उमंग एप शो होने लगेगा। आप उस ऐप पर क्लिक करके इंस्टॉल कर लें उसके बाद उसमें आपको अपना डाटा सबमिट करना है जो कि एक साइन अप के लिए बहुत जरूरी है इस साइन अप के द्वारा आपकी दी हुई सारी जानकारी उमंग एप में सबमिट हो जाती है। जो कि हमारे PF, भारत गैस, पैन कार्ड ,आधार कार्ड ,खेती किसान बीमा बहुत सारी गवर्नमेंट द्वारा दी गई सुविधाओं का लाभ उठाने में मदद करती है। तो आइए शुरू करते हैं कि किस तरह उमंग एप में हम अपना डाटा submit कर सकते हैं।

जिस तरह यहाँ पर दिखाया है कि यहां पर दो ऑप्शन दिए गए हैं। एक लॉगइन और दूसरा पंजीकरण आपको पंजीकरण पर क्लिक करना है। उसके बाद आपको अपना डाटा फीड करना है । सबसे पहले आपको अपना नंबर ऐड कर देना है । इसके बाद एक ओटीपी आपके मोबाइल पर जाएगा ओटीपी आपको ऐड कर देना है। इसके बाद आपको एक एम पिन बनाने के लिए SMS द्वारा संकेत मिलेगा जो कि 4 अंकों का बनाना होगा। आप अपने मन मुताबिक किसी भी तरह का अपनी मर्जी से कोई भी चार अंक चुन सकते हैं । वह अंक आपके लिए फ्यूचर में कभी भी उमंग ऐप को ओपन करने के लिए पासवर्ड के रुप में सहयोग करेगा।

अब हमारे सामने उमंग एप की पूरी विंडो ओपन हो जाएगी इसके बाद आपको इसमें ई पी एफ ओ पर क्लिक करना है अब एक ईपीएफओ का नया विंडो ओपन हो जाएगा इसमें आपके सामने 5 ऑप्शन दिखाई पड़ेंगे कर्मचारी केंद्रीय सेवाएं सामान्य सेवाएं नियोक्ता सेवाएं पेंशनभोगी सेवाएं ई के वाई सी EKYC आदि।

उपर दिखाई दे रही यह विंडो है। इस बिंडो में आप दावा करें पर क्लिक करें। आप चाहें तो यहां पर अपनी पासबुक भी देख सकते हैं और अपना दावा भी कर सकते हैं। आपकी इच्छा अनुसार आप जो भी चाहे कर सकते हैं यदि आपको पीएफ फॉर्म के लिए अप्लाई करना है पीएफ निकालना है तो आप ज्यादा करें पर क्लिक करें। उसके बाद आपके सामने एक नया विंडो ओपन हो जाएगा जिसमें आपको अपनी सारी डिटेल सबमिट करनी हैं।

अब आप यहां पर अपने बैंक अकाउंट के लास्ट 4 डिजिट डाल दें इससे आपका अकाउंट वेरीफाई हो जाएगा उसके बाद आपको दिखाई दे रहा है आपकी मौजूदा सदस्य आईडी दिखाई पड़ेगी बस आपको यहीं पर क्लिक करना है और आप ऑनलाइन धागे के लिए आगे बढ़े अब इसमें आपको आगे धीरे धीरे सारी डिटेल सही क्रम में भरनी है उसके बाद जब आप अपनी सारी डिटेल को भर दोगे आपसे किस के लिए आप आवेदन कर रहे हो जैसे आप एडवांस निकालना चाह रहे हो या आप पीएफ विड्रोल करना चाह रहे हो इसमें 31 नंबर 10C नंबर 19C नंबर 3 तरह के फार्म अप्लाई करने होते हैं यहां पर 19 नंबर पेंशन के लिए अप्लाई किया जाता है और 10 नंबर फार्म बीएफ वीडियो और 31 नंबर फार्म एडवांस के लिए रिप्लाई करते हैं अब आपको PF निकालने के लिए 10C और 19C के लिए अप्लाई करें ।इसके बाद आपको दिखाई देगा की उमंग पोर्टल में आपसे आशा की जाती है कि आप इसमें सही जानकारी को सबमिट कर रहे हैं लास्ट में आप आई एग्री पर क्लिक करेंगे इसके बाद आपके आधार लिंक मोबाइल पर एक मैसेज जाएगा उस मैसेज में जो ओटीपी जाएगा वही OTP यहां पर आपको सबमिट कर देना है।

अब आप का फार्म पीएफ विड्रोल के लिए अप्लाई हो गया है अब आप निश्चिंत रहे कुछ दिनों बाद आप अपने क्लेम को ट्रैक करें और देखेगे की कहां तक आपका प्रोसेस पहुंचा है आप पाएंगे कि कुछ ही दिनों में आप का PF CLAIM सेटल हो जाएगा।इस तरह आप आसानी से उमंग एप के द्वारा अपना पीएफ निकाल सकते है दावा ट्रैक कर सकते हैं। भारत सरकार द्वारा लांच किया हुआ उमंग एक ऐसा पोर्टल है यहां पर हमें बहुत सारी सुविधाओं का फायदा आसानी से उठा सकते हैं ।

आर्टिकल आपको कैसा लगा इसके बारे में अपने कमेंट और राय अवश्य दें। और हमारे नए आर्टिकल का नोटिफिकेशन पाने के लिए सब्सक्राइब और FOLLOW अवश्य करें हम हमेशा ऐसी जानकारियों को किस करते रहते हैं जो हमारी रोजमर्रा की जिंदगी में बहुत उपयोगी हैं जिनके द्वारा हम अपने काम काज दिनचर्या लाइफ को और आसान बना सकते हैं।

HEALTHY MIND AND BODY

आप इस Blog में इस Post को पढने के बाद इस Article से संबंधित अपने विचार साझा कर सकते हैं।

आज हम इस आर्टिकल में जानेंगे कि किस प्रकार हम अपने स्वास्थ्य का ध्यान रख सकते हैं। आज के दौर में हम में से किसी के पास अपने स्वास्थ्य की देखभाल करने के लिए समय नहीं है हम सब ऐसे कारणों में बिजी रहते हैं। जहाँ पर हमारे स्वास्थ्य पर ध्यान देना मुश्किल हो जाता है जिसके कारण हमारा मन और शरीर अस्वस्थ महसूस करते हैं। सबसे पहले बात करते हैं अपनी दिनचर्या की किस तरह हम अपने दिन की शुरुआत करते हैं । अधिकतर हम सब दैनिक कार्यों के अलावा अपने स्वास्थ्य पर ध्यान नहीं देते हैं जिस कारण हमारे मानव शरीर का संतुलन बिगड़ जाता है और हम सब कहीं ना कहीं किसी न किसी बीमारी का शिकार हो जाते हैं जिससे हमारे दैनिक कार्यों पर और हमारे शरीर पर बहुत नकारात्मक प्रभाव पड़ते हैं तो आइए आज हम इस आर्टिकल को के माध्यम से जानेगे की किस प्रकार स्वास्थ्य के नियम को फॉलो करें जिससे हमारे स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव ना पड़े सबसे पहले उन कारणों को जानेंगे जिन्हें हमें सबसे पहले फॉलो करना है।
1- सुबह जल्दी नींद से उठे़ंं- सुबह सुबह की नींद सभी को प्यारी है लेकिन सुबह जल्दी जाकर हम अपने मन और शरीर को स्वस्थ रख सकते हैं। और हमें अपना दैनिक कार्यों से समय निकालने की आवश्यकता नहीं होती है क्योंकि हम दो-तीन घंटे का समय अपनी नींद से जाग कर निकाल लेते हैं जिसका प्रभाव हमारे दैनिक कार्यों पर पड़ता है सभी कार्य समय से हो जाते हैं इसके विपरीत यदि लेट नींद से जागते हैं तो हम आलस्य महसूस करते हैं और सारा दिन हमारा आलस्य मे ही बीत जाता है जिसे कारण रोज की दिनचर्या का संतुलन बिगड़ जाता है इसलिए सुबह में जल्दी उठने की आदत अपने जीवन में फॉलो करनी चाहिए जिससे हमारा स्वास्थ्य और जीवन संतुलन में बना रहे ।
2- सुबह का पानी अमृत समान– सबसे पहले उठकर ईश्वर का का स्मरण करें इसके बाद 1 से 2 गिलास पानी अवश्य पिएं सर्दी का समय हो तो गुनगुना पानी और गर्मी का समय नॉर्मल पानी पी सकते हैं इस प्रकार सबसेेे पहले हमें पानी पीना चाहिए । पानी पीने सेेेे रात्रि मे जो हमारे अंदर मुँँह मे लार बनी होती है वह हमारे शरीर में एक औषधि का काम करती है।जिससे हमारे शरीर को बीमारियों से लड़ने की क्षमता प्रदान करती है इसलिए हमें सबसे पहले सुबह उठकर पानी अवश्य पीना चाहिए ।सुबह का पानी हमारे शरीर के लिए एक वरदान के समान होता है ।
3 -योगासनों को अपनायें-  योगा बिना जीवन अधूरा है क्योंकि आज तो हमारे योग गुरु श्री रामदेव बाबा जी ने इसके बारे में बहुत ही विस्तार से बताया हैं बाबा जी ने हमारे देश व दुनिया को योग के बारे में और योगा कसरत आदि करने से कितने फायदे हैं सभी को विस्तार से बताया है हम कह सकते हैं कि दैनिक एक्सरसाइज हमारे जीवन की आयु को बढ़ाती है और सामाजिक एवं अपने दैनिक कार्यों एवं परिणामों में सकारात्मक प्रभाव डालती है इसलिए हमें अपने जीवन में योग को अवश्य शामिल करना चाहिए इससे हमारा जीवन लंबा और सुखद होता है।
4-अपने दैनिक कार्यों की समय सारणी बनाएं
यदि हमें अपने स्वास्थ्य को मेंटेन रखना है तो अपने सही दिन के कार्य का समय सारणी अवश्य बना लेना चाहिए जिससे हमें अपने लिए समय निकालने की आवश्यकता नहीं पड़ती है जिससे हम अपने स्वास्थ्य पर ध्यान रख सके क्योंकि सभी दैनिक कार्यों का समय निश्चित होता है तो हमें अपने शरीर को और स्वास्थ्य को मेंटेन करने में आसानी हो जाती है क्योंकि हमारे पास सभी के लिए समय निश्चित होता है इसलिए सभी दिन के कामकाज के अलावा अपने एक्सरसाइज और शरीर के लिए भी समय निकालना अति आवश्यक होता है जिससे हम अपने स्वास्थ्य को मैनटन रख सकें।
5-ब्रेकफास्ट से डिनर तक अपने भोजन का ध्यान रखेंखासकर पाया जाता है कि हम में से कुछ लोग अपने खानपान पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं देते हैं शायद जानकर भी अनजान रहते हैं और अपनी हेल्थ को अनदेखा किया करते हैं जिसके कारण नकारात्मक परिणाम प्राप्त होते हैं जहां तक हो सके अपने भोजन का सप्ताहिक मीनू बनाएं कि हमें दिन की शुरुआत किस प्रकार की भोजन से करनी है जहां तक हो बासी और तैलीय भोजन को अवॉइड करें एक कहावत है जैसा खाओगे अन्न वैसा रहेगा मन कहने का तात्पर्य है कि अपने खानपान में संतुलन बना कर ही अपने शरीर और मन को सुंदर बना सकते हैं इसलिए हमें अपने खानपान पर बहुत विशेष ध्यान देना चाहिए जिससे हम अपने शरीर को स्वस्थ और लंबा दीर्घायु बना सके।
रात्रि नींद को दी तवज्जो-  हम में से बहुत से लोग अपनी अच्छी हेल्प को लेकर चिंतित रहते हैं कि कहीं वजन का घटना बढ़ना डिप्रेशन थकावट चक्कर ब्लड प्रेशर जैसी समस्याओं में नींद का बहुत बड़ा योगदान है नींद का ना पूरा हो ना कहीं ना कहीं बीमारियों को बढ़ाना है । शायद इसलिए हमारे योग गुरुओ और डॉक्टर द्वारा नींद पर ध्यान देने को कहा जाता है। जिससे हमारा शरीर और मानसिक संतुलन सही बना रहता है। इसलिए हमें अपने जीवन में नींद में लापरवाही नहीं देनी चाहिए समय से सोना और समय से उठना जीवन को संतुलन में बनाए रखने का एक ही मूल मंत्र है। समय से जब हम अच्छी नींद ले लेते हैं और समय से जब हम उठ जाते हैं तो ताजगी महसूस करते हैं शायद इसका कारण है कि शरीर को इतनी नींद प्राप्त हो जाती है जितनी उसको चाहिए इसलिए हमें अपनी नींद पर विशेष ध्यान देना चाहिए।
इस आर्टिकल से संबंधित यदि कोई सलाह मशवरा देना और लेना चाहे तो कमेंट बॉक्स में कमेंट अवश्य करें और नए आर्टिकल का Notification प्राप्त करने के लिए Follow अवश्य करें।

हार या जीत

हमारा आशा है आप इस Blog की इस Post को पढने के बाद अपने आप में एक अलग नजरिया महसूस करेंगे।


मैं चाहकर, तुझे जीत न पाया मेरी हार में ही , मेरी जीत है।
मैं तेरे लिए कुछ भी तो नहीं ,तू मेरे लिए मनमीत, मेरा गीत है मैं  सब कुछ हारा तुझको पाकर , एक तू ही मेरी जीत है। मै चाहकर तुझे जीत न पाया ,तेरी जीत में मेरी जीत है।

हार या जीत  -True Love

अपनों की भी ,परवाह न की ,तुझसे था रिस्ता जोड़ लिया।सोचा था जो है अब मेरा , वह सब कुछ तुझसे जोड़ दिया। ना समझा फिर भी अपना ,कियों मुझसे था मुँह मोड़ लिया।फिर भी मैं कहता हूँ दिल से , संसार हो तेरा प्यार भरा। जहाँ रहे तू खुशियां बिखरी हों ,परिवार हो तेरा हरा भरा। मैं चाहकर ,तुझे जीत न पाया ,मेरी हार में ही मेरी जीत है। मैं तेरे लिए कुछ भी नहीं ,तू मेरे लिए मनमीत है मेरा गीत है। मैं तो था पहले से तन्हा ,कोई गैर मिला था अपना सा। मैंने अब सब भुला दिया  ,सोचा है, वह था,सपना सा। अब भी दिल से तुझसे कहता , माने या ना माने तू। जो आया था वह चला गया ,वह तो था सुन्दर सपना सा। परवाह न कर ,अब तू उसकी ,अब अपनों को पहचाने तू। मैं चाहकर ,तुझे जीत न पाया ,मेरी हार में ही मेरी जीत है। मैं तेरे लिए कुछ भी तो नहीं ,तू मेरे लिए मनमीत,मेरा गीत है।तेरा जीवन ,अपनों में है ,मेरी तू परवाह न कर मेरा जीवन सपनों में है ,मेरा जीवन सपनों में है। सपनें तो आते जाते है , जीवन में सब कुछ नाते है। तेरा जीवन तेरे अपनें , सुन्दर से ,तेरे सपनें सपनें तो आते जाते हैं। जीवन में सब कुछ नाते है। जो चला गया वह फिर मिलता ,जैसे सपनों में आते है। मैं चाहकर ,तुझे जीत न पाया ,मेरी हार में ही मेरी जीत है। मैं तेरे लिए कुछ भी तो नहीं ,तू मेरे लिए मनमीत मेरा गीत है। ना सफर हमारा खत्म हुआ , न अब भी मैं रुक पाउँगा। तू जीवन अपना चलता चल ,तेरे सपनों में आऊंगा। मैं हार गया तू जीत गया ,मैं हार गया तू जीत गया। एक सपना था वह टूट गया ,कोई अपना सा था छूट गया। ये दुनियां आनी जानी है ,अपनी ये प्रेम कहानी है। अपनी ये अंत कहानी है ,अपनी ये प्रेम कहानी है। मैं चाहकर ,तुझे जीत न पाया ,मेरी हार में मेरी जीत है। मैं तेरे लिए ,कुछ भी तो नहीं ,तू मेरे लिए मनमीत है गीत है।                                                     सिर्फ और सिर्फ यादें ।

Online E Adhar card Download kare

आप इस Blog में इस Post को पढने के बाद इस Article से संबंधित अपने विचार साझा कर सकते हैं।

आधार कार्ड डाउनलोड करें free online government site

दोस्तों आज का आर्टिकल इस बात पर आधारित है। कि हम अपने आधार कार्ड को ऑनलाइन कैसे डाउनलोड करें। या खोया हुआ आधार कार्ड किस प्रकार प्राप्त करें। इसी के बारे में आज इस आर्टिकल के द्वारा हम जानेंगे कि किस प्रकार हम अपना खोया हुआ आधार कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं।अपने आधार कार्ड का स्टेटस जान सकते हैं। तो आइए जानते हैं कि ई आधार कार्ड किस प्रकार से हम डाउनलोड कर सकते हैं।
उससे पहले हम अपने मोबाइल या डेस्कटॉप मैं ब्राउज़र को ओपन करेंगे। उसके बाद उसने हम अपने भारत की गवर्नमेंट वेबसाइट
https://uidai.gov.in को ओपन करेंगे। और यहां पर एक गवर्नमेंट जो सरकार द्वारा लांच किया हुआ आधार कार्ड के लिए वेबसाइट प्रदान किया गया है उस विंडो पर हम पहुंच  जाएंगे ।इसमें उसके बाद फिर हमें  My Adhar पर क्लिक करना है और फिर एक छोटी सी विंडो साइड बार में खुलेगी जिसमें 7 तरह के आधार से संबंधित लिंक मिलेंगे। आपको चौथे नंबर पर जहां पर  जहां पर आधार सर्विसेज लिखा है वहां पर क्लिक करना है। अब आपके सामने गवर्नमेंट की आधार बेबसाइट ओपन हो जाएगी। अब यहां पर आप वेरीफाई आधार पर क्लिक करें और फिर नया एक पेज  खुल जाएगा।

 जो इस तरह ऊपर दी गई है इस प्रकार की विंडो दिखाई देगी अब आपको इसमें Enroll and get adhar  पर क्लिक करना है जो दूसरा लिंक है अब आपके सामने एक नया विंडो ओपन होगा जो इस तरह का दिखाई पड़ेगा जैसा नीचे दिया गया है

आपको दिखाई दे रहा होगा। अब इसमें नीचे की तरफ 4 ऑप्शन दिए गए हैं इसमें से आपको चौथे नंबर पर लास्ट में एक ऑप्शन दिया गया है। डाउनलोड आधार वहां पर सबसे नीचे एक छोटा सा Download लिंक दिया गया है। आप उस  क्लिक करें और उसके बाद एक नया विंडो खुलेगा। जो इस तरह दिखाई देगा।

 अब आपको यहां पर अपना आधार नंबर डालना है जो 12 अंक का दिया होता है। उसके बाद आई वांट ए पर एग्री का निशान लगाना है कैप्चा फीड करना है। अब आपके मोबाइल पर एक ओटीपी जाएगा। बस कुछ नहीं करना अब वही OTP  send किया गया है  आपके मोबाइल पर जो कोड गया है उसको इसमें डाल देना है। इसके बाद आपका ई आधार कार्ड डाउनलोड हो जाएगा। अब आप इसको अपने मोबाइल या प्रिंटर से निकाल सकते हो ।
लेकिन इसमें एक बात और है यह एक पीडीएफ फाइल होगी जिसको खोलने के लिए आपको एक पासवर्ड बताया जाएगा यदि आप ध्यान से देखेंगे पड़ेंगे तो आपको दिखाई दे जाएगा नहीं तो हम आपको बताएं दिए रहे हैं आपकी जब PDF फाइल डाउनलोड हो जाए उसके बाद जब आप अपने मोबाइल या कंप्यूटर पर जब open  करेंगे तो उसमें आप अपने नाम की जो नाम आपका आधार कार्ड में दिया गया है उस नाम की 4 शब्द कैपिटल लेटर में और आप की जन्म तिथि को सबमिट कर देना है। यही आपकी पीडीएफ फाइल का पासवर्ड होगा और आपका आधार कार्ड पूर्ण रूप से ओपन हो जाएगा अब आप इसको अपने मोबाइल या डेक्सटॉप में सेव कर सकते हैं। अब आप जहां चाहे अपने ई आधार कार्ड को use कर सकते हैं ।धन्यवाद।
 यह आपको कैसा लगा इसके बारे में आप अपनी राय अवश्य दें हमारे नए अपडेट और नोटिफिकेशन पाने के लिए सब्सक्राइब अवश्य करें

Motivational Hindi Funny story

आप इस Blog में इस Post को पढने के बाद इस Article से संबंधित अपने विचार साझा कर सकते हैं।
आज का आर्टिकल इस बात पर आधारित है। कि मनुष्य जीवन में किस प्रकार से खुद ही परेशान होता है ।उसकी सोच ही उसके दुख का कारण बन जाती है जिस कारण हो हमेशा जीवन भर दुखी रहता है। आज इसी बात को लेकर शब्द से परेशानीयहां पर हम एक छोटी सी कहानी के रूप आर्टिकल पेश कर रहे हैं। जिससे हमें एहसास होगा कि हमारी सोच जैसी होगी वैसा ही हमारा मन दिमाग और जीवन होगा।

“स” शब्द से परेशानी –

आपके पड़ोस में एक सज्जन रहते हैं ।नाम है उनका श्याम सुंदर श्रीवास्तव। एक बार एक सड़क छाप ज्योति ने उनका हाथ पकड़ा और देख कर कहा कि बेटा जी आप स शब्द से सावधान रहना। यह तुम्हारे लिए बहुत मनहूस है और तुम्हारी मृत्यु भी स शब्द से होगी। स शब्द तुम्हारे लिए कॉल साबित होगा। अब श्याम सुंदर श्रीवास्तव जी चिंता में पड़ गए। उन्होंने सोचा कि स शब्द से दूर ही रहना चाहिए। इसलिए उन्होंने गंभीरता से लिया और उन्होंने स शब्द से सावधानी बरतनी शुरू कर दी। उन्होंने अपने मित्रों सत्य सुधीर संदीप शिकार संजय जितने भी स ,शब्द से दोस्त सभी को छोड़ दिया। सब्जी आदि से त्याग कर दिया। साइकिल से जाने से घबराने लगे।उन्होंने सोचा शायद शायद हो जाए सोमवार शुक्रवार शनिवार7,17, 27 तारीख को सावधान रहने लगे। सरकारी नौकरी छोड़ दी। एक बार उनके लिए एक रिश्ता आया खुशी खुशी हां कर बैठे मन ही मन लड्डू फूट रहे थे। अब हमारी शादी होगी शहनाई बजेगी सगाई होगी ससुराल जाना पड़ेगा ससुर साला साली सरहज होगी। बारातियों का स्वागत चाय समोसे से होगा।हम अपनी बीवी के साजन होंगे और उनकी बीवी उनकी सजनी होगी संतान होगी बाप रे इतने सारे स, उन्होंने डर के मारे शादी से इंकार कर दिया। नाम भी श्याम सुंदर था अब क्या सोचे मन में सोच रहे कि कैसे बचा जाए । एक बार श्याम सुंदर जी सहारनपुर जा रहे थे। स्टेशन का नाम सुनते ही डर गये। श्याम सुंदर जी सोच रहे आज उनकी समाधि बन जाएगी। राम-राम करके स्टेशन पहुंचने पर गाड़ी का नाम सुनते ही डर गये। गाड़ी का नाम शालीमार एक्सप्रेस था। उन्हें लगा गाड़ी नहीं यमदूत आ रही है जो उन्हें पर लोग ले जाने के लिए आए हैं। श्याम सुंदर जी बहुत डर रहे हैं तोबा तोबा करके गाड़ी स्टेशन से चली गई तो घोषणा हुई सहारनपुर एक्सप्रेस आ रही है। अब तो उन्हें और पसीने छूटने लगे ट्रेन में घुस गए तो पता चला की सीट पर बैठना है कहां तक मैं स शब्द से सावधान रहूं । सिगरेट शराब पीता नहीं आखिर कहां तक सावधान रहूं सांस तो लेनी पड़ेगी। कहने का मतलब यह है कि जिस बात को जिस तरीके से जिस नजरिए से देखेंगे हम वैसे ही होते चले जाएंगे। अगर श्याम सुंदर जी स शब्द को सौगात समझ लेते तो जीवन में परेशान नहीं होते। कहने का मतलब यह है की कठिनाइयां बहुत सी आती हैं लेकिन हमारा नजरिया ऐसा होना चाहिए कि उन कठिनाइयों को अच्छाइयों में बदलने की ख्वाहिश होनी चाहिए। जिससे हम अपने जीवन को सुखमय और परिवारिक,सामाजिक तालमेल वाला बना सकते हैं। और सुंदर जीवन जी सकते हैं। तो यह थी श्याम सुंदर श्रीवास्तव की रोमांचक छोटी सी कहानी। जिससे हमें सीख लेनी है कि जिस तरह की हमारी सोच होगी, जैसा हमारा नजरिया होगा हम उसी तरह के बन जाएंगे। और यह सब हमारे खुद के निर्भर करता है।

यह आर्टिकल आपको कैसा लगा इसके बारे में अवश्य अपनी राय कमेंट दें। आप सब से अनुरोध है कि हमारे ब्लॉग पर आने की कृपा करें और हमें मोटिवेट करें कि हम और अच्छे बढ़िया आर्टिकल लिखने की कोशिश करें और लिखता रहूं। धन्यवाद

Love of life (BETI BACHAO BETI PADAO) )

आप इस Blog में इस Post को पढने के बाद इस Article से संबंधित अपने विचार साझा कर सकते हैं।

                               चाहत जीने की
एक जान है तन के अंदर ,आने को बेताब
देखना मुझे इस दुनियां को है
मैं अंधकार, सीलन ,घुटन एक दलदल में रहती हूं।
पाना चाहती मैं छुटकारा,इन सबका बंधन छूटे कब।
विचरना मुझे है एक नये जहां में,मिले सांस खुले आसमां में।
एक जान है तन के अंदर आने को बेताब।
चंचल मन कोमल बदन ,जिसका मुख नयन तेज तलवार
विचरना उसे है उस जहां मे,जहां सुंदर हो संसार
एक जान है तन के अंदर आने को बेताब।

मां ने कहा –
तुझे डर नही लगता बाहर की दुनियां अजीब है।
सूरज की गरमी है ,तेज आंधियां,,बारिस ओले आग के शोले।
तू इन सब में रह पायेगी ,तू ये दुनियां सह पायेगी
तू इन सब में मिट जायेगी,यहां नरक न सह पायेगी।
जान कहती है-
डरूंगी,मरूंगी,मिटूंगी,बढूंगी,परवत-शिखर मै सब पर चढूूंगी।
आऊंगी धरती को चीरकर ,अंधकार,दलदल को तोडकर
आ पहुंची अब नयी दुनियां में ,खुला आसमां खुले जहां मे।
अब उस पर कुदरत की मेहरबानी-
सूरज चमक ठंड ले जाती,तेज आधियां पवन कहाती
बारिस उसकी पय़ास बुझाती, धीरे-धीरे बढती जाती।
देव सा सुंदर रूप है पाकर,नहीं किसी से डरती है
नही रही वह किसी से पीछे ,सारे काम वह करती है।
हर घर की शाेभा हो तुम,चाहो तो तुम भी पढ सकती हो।
नही रहीं नारी अब पीछे,तुम भी आगे बढ सकती हो।
अब नही रहीं तुम किसी से पीछे
तुम सभी काम कर सकती हो।
नहीं रहीं नारी अब पीछे,तुम भी आगे बढ सकती हो।
तुम भी आगे बढ सकती हो।

देश की नारी-
बेटी बचाओ-बेटी पढाओ। [संदीप सिंह]